Overclocking क्या है और इससे Device को speed-up करे ?

Overclocking kya hai : आजकल Technology का जमाना है, आज के जमाने में हर रोज़ कोई ना कोई Advanced technology develop हो रही है।

अब जो पुरानी, Outdated Technology होती है, उसका इस्तेमाल करना बहुत ही मुश्किल हो चुका है, क्योंकि नए-नए Updates आते हैं, जो हमारे Computer की पुरानी Technology Compaitable नहीं होते हैं।

जिसके कारण हमारे computer की speed बहुत ही ज्यादा कम हो जाती है।
इससे बचने के लिए हम दो चीजें कर सकते हैं

1. हम पुराने वर्जन के सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल करें।
2. हम एक high specifications वाला नया computer ख़रीदे।

अब कई लोग ऐसे होते हैं जिनके पास इतने पैसे नहीं होते हैं कि, वह नया computer नही ख़रीद सकते। और उनको अपने pc में latest softwares का भी use करना है।

तो दोस्तों, आपकी इस मुश्किल को दूर करने के लिए, तो आज आप सीखेंगे के Overclocking kya hai। Overclocking से अपने Computer की Speed को कैसे बढ़ाएं ?

overclocking kya hai, advantages and disadvantages of overclocking
overclocking kya hai

Overclocking kya hai

Overclocking दो शब्दों से से बना है, Over and Clocking.
Over: Over का mean है, किसी भी चीज़ को उसकी limit से ज्यादा use करना है।
Clocking: Clocking का meaning आपके घर में लगी गाड़ी से नहीं है, चलिये पहेले जान लेते है कि Clocking Kya hai

हर एक processer के अंदर एक clock नाम का, Circuit होता है। जो input को 0 and 1 के form में process करके हमें output तयार करके देता है।

इस सारे process को clocking का नाम दिया जाता है। अब जे जो clocking है, बहुत ही ज्यादा तेज़ी से काम करती है।
Clocking की Speed, Processor के हिसाब से नीचे दी गयी है।

दोस्तों अब जब हमको clocking की speed को उसकी limit से ज्यादा बढ़ाते हैं, तो उसे हम overclocking कह देते हैं। Overclocking कैसे की जाती है इसके लिए नीचे जानकारी दी गई है।

Overclocking कैसे करते है ?

Concept behind Overclocking: दोस्तों किसी भी डिवाइस के Processor को और Overclock करने के लिए। उसे उसकी limit से थोड़ा ज्यादा current pass किया जाता है। जिससे कि वह थोड़ी ज्यादा Performance शुरू कर देता है।

दोस्तों एक बात का खास ध्यान रखिएगा कि किसी भी Processor को जब आप Overclock करेंगे। तो वह ज्यादा Heat release करेगा। जो जब ज्यादा Heat release करेगा, तो आपको एक अच्छा Colling system भी चाहिए होगा।

किसी भी Processor या फिर Graphic card को वर्क लॉक करने के लिए, बहुत से सॉफ्टवेयर आते हैं।
मैंने तो के कई ऐसी companies भी देखी है, जो अपने ही Graphic card को overclock करने के लिए Softwares देते है। तो आप इन Software का use करके अपने Processor को Overclock कर सकते हैं।

दोस्तों जैसा कि हम जानते हैं कि किसी भी PC या किसी भी चीज की क्षमता होती है जिस ज्यादा बहुत ज्यादा काम कराया जाए तो वह बिगड़ सकती है

वैसे ही कंप्यूटर उसमें भी कुछ क्षमता होती है, जिसमें हम अगर थोड़ा सा दावा करती तो कोई फर्क नहीं पड़ता है।

दोस्तों, मेरे कहने का मतलब है कि हमें overclocking भी एक limit में रहकर करनी है। आप ऐसा नहीं कर सकते कि आपका processor आपको 2 value दे रहा है।
तो आप उसे Overclock करके 4 की value लेना शरू कर दे। अब ऐसा कर सकते हैं कि आप 2 value को 2.3 कर सकते है।

आपके लिए कुछ ओर articles

Pros of overclocking

1. दोस्तों Overclocking का सिर्फ, एक ही फायदा है। वो यह है कि इससे आप अपने Computer की Speed को बढ़ा सकते हैं।

Cons of overclocking

1. सबसे पहले आपके पास एक अच्छा Colling system होना चाहिए। अगर आपके पास एक अच्छा Colling system नहीं है, तो आपको एक Colling system खरीदना पड़ सकता है।

2. दोस्तो अगर आपका processor, overclocking करते समय खराब हो जाता है, तो उसकी waranty खत्म हो सकती है।

3. दोस्तो कई बार ऐसा भी होता है कि, आप अपने Processor को इतना ज्यादा Overclock करते है, कि वो Permanent fail हो जाता है।

चीज़ो को virtual तरीके में देखे 


दोस्तों अभी कुछ processor इसे भी आते हैं, जिन्हें आप आसानी से Overclock कर सकते हैं। लेकिन आपको फिर भी एक limit में रहकर करना चाहिए।

अगर आपको यह article”overclocking kya hai” पसंद आया है, तू इसे अपने दोस्तों के साथ share करना मत भूलिए गा, Thanks for Reading and Good Bye.

Leave a Comment